My Experience #13 First SHG TISA in 2016

हेलो दोस्तों , आज मैं आपको अपनी पहली मीटिंग का अनुभव शेयर करने जा रहा हु……… मुझे तीसा के बारे में इंटरनेट से पता लगा (2016 ) और मैंने एक वालंटियर को कॉल किया और जानने के लिए | उन्होंने मेरा पता पूछा और मैंने गलत पता बता दिया जो अक्सर हम हकलाने वाले लोग […]

My Experience #12 End of Your Story

“Your story may not have good start , but it is your sole responsibility to make its end GREAT” जी हाँ , हम सब……..के जीवन में……. कुछ न कुछ……. प्रोब्लेम्स जरूर……. रहती है…….. परन्तु ……जो व्यक्ति …….अपनी समस्या ……… से ऊपर…… उठ के …….उस पर…… विजय पा ……..लेता है…… वही असली …….मायने में ……जीवन जीता […]

My experience #7 Boy to Man

हेलो साथियों , यहाँ मैं अपना अनुभव शेयर करने जा रहा हु की कैसे मैं इंट्रोवर्ट हकलाने वाले बच्चे से एक्सट्रोवर्ट बनता जा रहा हूँ ये घटना मेरी 12th क्लास के बाद की है – मैं 12th से पहले कभी बस में अकेला नहीं गया था और 12th के बाद मुझे एक फॉर्म लेने पास […]

हकलाहट के आगे जहां और भी है …

“जिन्दगी में जब जिम्मेदारियों आईं तब अहसास हुआ कि हकलाना तो बहुत छोटी सी बात है।” नमस्कार साथियों, मेरा नाम अभिषेक कुमार वर्मा है। मैं दिल्ली के स्वयं सहायता समूह से हूं। पिछले 3 वर्षों में मैंने कोई पोस्ट आपके साथ साझा नहीं की। मैं अपने पारिवार और व्यवसाय में व्यस्त था। खुद को परिवार […]

हम सबके मन की भाषा है हिन्दी

आज हिन्दी दिवस है। हिन्दी लेखन से जुड़ा होने के बाद भी कई वर्षों से हिन्दी दिवस पर कुछ लिख नहीं पाया। पता नहीं आज कैसे फिर लिखने का मन हो आया। भारत में लम्बे समय से हिन्दी के अस्तित्व और भविष्य पर चिंता जाहिर की जाती रही है। समय-समय पर आयोजित होने वाले सम्मेलनों […]

My experience #1

क्या मेरी हकलाहट मेरे लिए अच्छी है या बुरी ? मैं हमेशा सही बोलने की कोशिश करता हूं , डरता हूँ कि कहीं हकला गया तो क्या होगा !!! अगर मैं अटक गया तो क्या कल के अखबार के पहले पन्ने पे मेरा नाम होगा – हकलाने के जुर्म में एक व्यक्ति को सज़ा 😊😊 […]

हकलाहट के नए आयाम

द इण्डियन स्टैमरिंग एसोसिएशन तीसा से जुड़ने के बाद मैंने एक बहुत बड़ा बदलाव अपने अंदर पाया। अक्सर मैं सोचा करता था- मैं अभागा हूं, जो इतना अधिक हकलाता हूं। शायद ही दुनिया में कोई मेरे जैसा व्यक्ति कोई और होगा। मेरे आसपास कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं है, जो मेरी समस्या को समझता हो। […]

ओशो ध्यान शिविर: आनन्द का उत्सव

तीसा के साथियों उमेश रावत और राकेश जायसवाल की प्रेरणा से मैं भी ओशों की ओर अग्रसर हुआ। हालांकि मैं ओशो के फेसबुक ग्रुप से काफी समय पहले ही जुड़ा हुआ था और ओशो की एक किताब भी पढ़ा था, लेकिन उस समय कोई खास ध्यान नहीं गया। लगातार 4 महीने तक ओशो के आॅडियो […]

अपनी प्रतिभा के बल पर अच्छे मुकाम हासिल करें, हकलाहट कोई बाधा नहीं…

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है। मैं मध्यप्रदेश के उज्जैन शहर में रहता हूं। एक बार मैं हकलाहट के इलाज के बारे में यूट्यूब पर सर्च कर रहा था, तब मुझे तीसा के बारे में सबसे पहले मालूम हुआ। उस समय मैं स्पीच थैरेपी भी ले रहा था, लेकिन जाॅब लगने के कारण बीच में ही […]

मैं हकलाते हुए जीवन में नई शुरूआत कर रहा हूं…

भोपाल संचार कार्यशाला में जाने से पहले मन में एक ही बात थी कि हकलाहट का कोई न कोई समाधान हो सकता है। इसको ठीक किया जा सकता है। वर्कशाॅप में आने के बाद समझ में आया कि हकलाहट को पूरी तरह से ठीक कर पाने से बेहतर है कि हकलाहट होते हुए भी हम […]

भोपाल कार्यशाला : संचार के लिए ध्यान से सुनने का महत्व जाना…

मेरा नाम भानु प्रताप सिंह है। मैं उत्तराखण्ड राज्य के अल्मोड़ा जिला का निवासी हूं। वर्तमान में मैं छत्तीसगढ़ के जिला रायगढ़ में निवास कर रहा हूं। मेरी उम्र 49 वर्ष है। अभी मैं डायरेक्ट सेलिंग में व्यवसाय कर रहा हूं, जिसे नेटवर्क मार्केटिंग भी कहा जाता है। इस व्यवसाय में रोज नए लोगों से […]

भोपाल कार्यशाला के खट्टे-मीठे अनुभव…

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम वरूण प्रताप सिंह है। मैं उत्तरप्रदेश के फरूखाबाद जिले का रहने वाला हूं। भोपाल में यह मेरी तीसरी वर्कशाॅप थी। मैं बचपन से हकलाता हूं। भोपाल के लिए मेरी यात्रा की शुरूआत आगरा शहर से हुई। इस शहर में मुझे खट्टे-मीठे अनुभव हुए। आगरा पहुंचकर सबसे पहले मैं अपने काॅलेज गया […]

टीसा ने बदली मेरी तस्वीर…

मेरा नाम राकेश जायसवाल है मेरी उम्र 26 वर्ष है और मै एक इण्टर कालेज मे सरकारी अध्यापक के पद पर कार्यरत हूं। मै मूलरूप से फैजाबाद उ० प्र० का रहने वाला हूं। मै हमेशा से अपने अनुभव और विचार आप  लोगों से साझा करना चाहता था पर हमेशा इसी उधेडबुन मे रहता था कि […]

भोपाल संचार कार्यशाला: स्वीकार्यता को मिला नया आयाम

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम जगदीश मेवाड़ा है। मैं भोपाल में रहता हूं। मैंने हाल ही में 17-18 फरवरी 2018 को भोपाल में तीसा की संचार कार्यशाला में भाग लिया। इस कार्यशाला में मेरा अनुभव बहुत अच्छा रहा। कार्यशाला में मैंने सीखा की हकलाहट को छिपाने से बेहतर है, हम उसे स्वीकार करें और आगे बढ़ें। […]

TISA Bhopal workshop experience

My name is M.K.HARSH and I am from Bhopal(M.P),India .My age is 19 and i am a severe stammerer and have been stammering from last 17 years . This was my first TISA workshop. Initially I was in dilemma whether to attend the workshop because I had taken speech therapy from bhopal but with zero […]

भोपाल में वर्कशॉप (17-18 फरवरी. 2018)

द इण्डियन स्टैमरिंग एसोसिएशन (तीसा) अपनी यात्रा में एक नए पड़ाव पर आप सबको आमंत्रित करता है। झीलों की नगरी एवं मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में तीसा की 2 दिवसीय संचार कार्यशाला आयोजित हो रही है। Dates 17 एवं 18 फरवरी 2018 (शनिवार/रविवार) Venue स्मृति स्टार होटल (3 Star Hotel), 35, जोन-2, एमपी नगर, भोपाल-462011 […]

NC 2017 : जहां हकलाने पर मिलती हैं तालियां

एक हॉल में 80 लोग बैठे हुए हैं। 15 साल का एक किशोर मंच पर आकर माईक थामकर अपना नाम बताने की कोशिश करता हुआ… ह-ह-ह… लेकिन अटक जाता है, एक बार फिर प्रयास करता है ह-ह-ह- हरमन सिंह। सामने बैठे हुए लोग हरमन के हकलाने पर तालियां बजाकर उसका स्वागत करते हैं। आमतौर पर […]

अनचाही परिस्थितियों को नकारना ही बेहतर रास्ता है

हकलाना- सच कहें तो यह एक व्यक्तिगत मामला है। जब कोई व्यक्ति बोलने के लिए लगातार संघर्ष करने के बाद ही ठीक तरह से समझने लायक न बोल पाए तो ऐसी स्थिति में सुनने वाले लोगों की प्रतिक्रिया हकलाहट को एक सामाजिक मुद्दा बना देती है। अक्सर हकलाने वाले व्यक्ति की पीड़ा होती है कि […]